• A Review Under the World Library Indexing Journal
  • ISSN : 2455-6440

Our Volume 2 Issue 3

आप सभी को सूचित किया जाता है कि सरहद ई पत्रिका के आगामी अंक की बैठक हुई, बैठक में कई अहम मुद्दों पर निर्णय लिए गए, हिंदी में हो रहे Plagiarism को कैसे रोका जाए, हिंदी का वर्चस्व जितना होना चाहिए उतना क्यों नहीं हो रहा है- इसके पीछे क्या-क्या कारण उत्तरदायी है. क्यों मौलिकता की कमी बढ़ रही है. क्यों जॉब में आने के लिए पी.एच.डी. पासपोर्ट बनकर रह गई है. आदि-आदि विषय पर चिंतन करते हए आगामी अंक "21 वी सदी में हिंदी का उत्थान या पतन- तार्किक अभिव्यक्ति "विषय पर अपनी रचनाएँ editor@sarhadepatrika.com पर 30 जून 2017 तक unicode फॉण्ट में प्रेषित करे.